राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारतराष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारत, Logo
परिकल्पना विवरण संस्था अध्यक्ष रा. न्या. अ. को मार्गदर्शन देने वाले उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश रा. न्या. अ. के प्रबंध मंडलों के सदस्य निदेशक अपर निदेशक (अतिरिक्त निदेशक) रजिस्ट्रार (पंजीयक) संकाय प्रशासन रा. न्या. अ. का चार्टर वार्षिक प्रतिवेदन
चर्चा का स्थान प्रश्न NJA's Programmes Home Page वेब स्ट्रीमिंग निर्णय पर
रा. न्या. अ. के कार्यक्रम राज्य न्या. अ. के कार्यक्रम राष्ट्रीय न्यायिक शिक्षा रणनीति सम्मेलन वीडियो
उच्चतम न्यायालय के मामले साइट्स जिनका उपयोग आप कर सकते हैं ज्ञान साझा करना
शोध प्रकाशन / पत्रिकाएँ पठन सामग्री
प्रोफेसर (प्राध्यापक)
संकाय

    डॉ. गीता ओबेराय

    डॉ. गीता ओबेराय ने राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी में अगस्त 2014 से शामिल हैं। इसके पूर्व वे न्यायिक एवं विधिक अध्ययन संस्थान मारिशस की निदशक थीं। जहाँ मारिशस के विधिक एवं न्यायिक व्यवसाय हेतु सतत विधिक एवं न्यायिक शिक्षा प्रणाली स्थापित करने में सहायता दी। मारिशस के पूर्व में ’लायड ला कालेज’ ग्रेटर नोएडा की प्राचार्या थीं।

    सन् 2010 से 2012 तक वे महाराष्ट्र राज्य न्यायिक अकादमी उत्तन की अपन निदेशक रहीं जहाँ उन्होंने महाराष्ट्र के 2000 मजिस्ट्रेट और जिलस न्यायाधीशों को प्रशिक्षण प्रदान किया। सन् 2009 में उन्होंने बाह्य परामर्शदात्री के रूप में काम किया। आक्सफेम नोविब नीदरलैंड में अफ्रिका के 31 देशों के संविधान का सिंहावलोकन करने के लिए विवाद मोर्चे पर (Litigation Strategy) आर्थिक एवं सामाजिक अधिकारो की रक्षा के लिए सी.एस.ओ. को सहायता करने के प्रयत्न में। क्या भारत को प्राइवेट टी.व्ही. चैनलों द्वारा सि्ंटग आपरेशन को नियंत्रित करने चाहिए। विषय पर भारत के विधि आयोग की परामर्शदात्री भी रहीं। उन्होंने दिल्ली पुलिस विद्यालय के साथ नवनियुक्त पुलिस अधिकारियों को साक्षय के कानून पर प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए कार्य किया।

    वर्ष 2004 से 2008 तक, उन्होनें एक शोधार्थी के रूप में राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी भोपाल में भारत के लिए कार्य किया। और तत्पश्चात् एक सहायक प्राध्यापक के रूप में जहाँ उन्होंने प्रशिक्षण माड्यूल विकसित किए, राष्ट्रीय न्यायिक शिक्षा स्ट्रेटेजी मुख्य राष्ट्रीय पठन सामग्री विकसित करने में निदेशक की सहायता की न्यायाधीशों के प्रशिक्षण पर शोध पत्र प्रस्तुत किए, प्रतिमान योजनाएँ विकसित किए वर्ष 2004 से 2004 तक वे भारतीय विधि संस्थान नई दिल्ली में शोधार्थी रही जहाँ उन्होंने भारतीय न्यायालयों में विलम्ब की समस्या को हल करने युक्तियाँ सिफारिश करने के लिए न्यायिक सुधार पर कार्य किया।

    उन्होंने कामनवेल्थ स्प्लिट साइट छात्रवृत्ति कार्यक्रम के अन्तर्गत न्यायिक शिक्षा परिसंवाद के विकास पर डाक्टरी कार्य वारविक विश्वविद्यालय यू. के और दिल्ली विश्वविद्यालय भारत से डाक्टरी पूर्ण की।