राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारतराष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारत, Logo
परिकल्पना विवरण संस्था अध्यक्ष रा. न्या. अ. को मार्गदर्शन देने वाले उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश रा. न्या. अ. के प्रबंध मंडलों के सदस्य निदेशक अपर निदेशक (अतिरिक्त निदेशक) रजिस्ट्रार (पंजीयक) संकाय प्रशासन रा. न्या. अ. का चार्टर वार्षिक प्रतिवेदन
चर्चा का स्थान प्रश्न NJA's Programmes Home Page वेब स्ट्रीमिंग निर्णय पर
रा. न्या. अ. के कार्यक्रम राज्य न्या. अ. के कार्यक्रम राष्ट्रीय न्यायिक शिक्षा रणनीति सम्मेलन वीडियो
उच्चतम न्यायालय के मामले साइट्स जिनका उपयोग आप कर सकते हैं ज्ञान साझा करना
शोध प्रकाशन / पत्रिकाएँ पठन सामग्री
सहायक प्राध्यापक
संकाय

    डॉ. अमित मेहरोत्रा

     

     

     

     

     

    डॉ. अमित मेहरोत्रा

    डॉ. मेहरोत्रा ने वाणिज्य और कानून में स्नातक उपाधि प्राप्त करने के पश्चात् एम.डी. विश्वविद्यालय रोहतक से कानून में स्नातकोत्तर उपाधि और लखनऊ विश्वविद्यालय से डाक्टर ऑफ ला की उपाधि प्रापत की। उन्हें औद्योगिक संबंध में कार्मिक प्रबन्धन अन्य आपराधिक प्रक्रिया एवं वकालत में स्नातकोत्तर पत्रोपाधि प्राप्त करने का श्रेय है वे एक अधिवक्ता थे और उन्होंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय, लखनऊ बेंच में वकालत की और विभिन्न फर्मों और संगठनों में विधिक सलाहकार के रूप में भी अपनी सेवाएँ दी।

    उन्होंने एमिटी विश्वविद्यालय में एमिटी लॉ स्कूल में अपनी सेवाएँ दी जहाँ उन्होंने अध्यापन के अतिरिक्त विश्वविद्यालय के कई प्रशासनिक दायित्वों को निभाया। उन्होंने प्रशासनिक कार्यों के संदर्भ में संयोजक, समन्वयक के रूप में तथा कई समितियों और आयोजनों में सदस्य के रूप में महत्वपूर्ण सेवाएँ दी हैं।

    उन्होंने विभिन्न विधिक साहित्यिक शिविरों, जागरूकता कार्यक्रमों और कानून के छात्रों के लिए लोक अदालतों की कार्यवाहियों का संयोजन किया है। वे हिदायतुल्लाह राष्ट्रीय विश्वविद्यालय रायपुर में सहायक प्राध्यापक नियुक्त किए गए जहाँ उन्होंने विस्तृत रूप से अपना शिक्षण एवं प्रायोगिक कौशल दिया है तथा राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिताओं के संयोजन में अपना मूल्यवान योगदान दिया है।

    वे दो प्रमुख संस्थाओं में भी सहयोगी रहे है - ’द इन्स्टीट्यूट आफ कास्ट एंड वर्क अकाउन्ट्स ऑफ इंडिया ’ और ’द इन्स्टीट्यूट ऑफ कम्पनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया ’ जहाँ उन्हें अतिथिवक्ता के रूप में लखनऊ में कुशल व्याख्यान देने के लिए आमंत्रित किया गया।

    उन्होंने विभिन्न राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार एवं सम्मेलनों में भाग लिया है, शोध पत्र प्रस्तुत किए है और कई लेखों के प्रकाशित करने का श्रेय है।
    डॉ. मेहरोत्रा ने सर्वश्रेष्ठ फेक्लटी पुरस्कार श्री रामस्वरूप मेमोरियल ग्रुप ऑफ प्रोफेशनल कॉलेज के लखनऊ से वर्ष 2010-2011 में उनके समग्र विशिष्ट प्रदर्शन के लिए प्राप्त किया। उन्होंने राम स्वरूप स्मृति विश्वविद्यालय लखनऊ में विधिक अध्ययन संस्थान की पहल की एवं स्थापना की और उसके संस्थापक डीन रहे। उन्होंने विधि कार्यक्रमों के लिए पंचवर्षीय एकीकृत पाठ्यक्रम का विकास किया जिसमें बी काम, एल.एल.बी. (आनर्स) और बीबीए, एलएलबी (आनर्स), त्रि-वर्षीय विधि पाठ्यक्रम, एलएलएम तथा विधि में शोध उपाधि सम्मिलित हैं।