राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारतराष्ट्रीय न्यायिक अकादमी, भारत, Logo
परिकल्पना विवरण संस्था अध्यक्ष रा. न्या. अ. को मार्गदर्शन देने वाले उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश रा. न्या. अ. के प्रबंध मंडलों के सदस्य निदेशक अपर निदेशक (अतिरिक्त निदेशक) रजिस्ट्रार (पंजीयक) संकाय प्रशासन रा. न्या. अ. का चार्टर वार्षिक प्रतिवेदन
चर्चा का स्थान प्रश्न NJA's Programmes Home Page वेब स्ट्रीमिंग निर्णय पर
रा. न्या. अ. के कार्यक्रम राज्य न्या. अ. के कार्यक्रम राष्ट्रीय न्यायिक शिक्षा रणनीति सम्मेलन वीडियो
उच्चतम न्यायालय के मामले साइट्स जिनका उपयोग आप कर सकते हैं ज्ञान साझा करना
शोध प्रकाशन / पत्रिकाएँ पठन सामग्री
विधि सहयोगी
संकाय

    सुश्री नीतिका जैन

     

     

     

     

     

    सुश्री नीतिका जैन

    इन्होंने सिम्बायसिस विधि विद्यालय पुणे से वर्ष 2013 में बी.ए.एल.एल.बी. की उपाधि प्राप्त की। उसके पश्चात् राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय (एल.एल.आई.यू.), भोपाल से मई 2013 में मानवाधिकार में विशेषज्ञता के साथ एल.एल.एम. पूरा किया। उनके पास ’’बौद्धिक सम्पदा अधिकार’’ में सिम्बायसिस विधि विद्यालय से पत्रोपाधि है। उनके पास जर्मन भाषा में (ट्रांस लिंगुवा इन्स्टीट्यूट) भोपाल से इंटरमीडिएट प्रमाण पत्र (ए-2 स्तर) स्वामी विवेकानन्द पुस्तकालय है।

    सुश्री नीतिका जैन अगस्त 2015 में विधि एसोसिएट के रूप में राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी से जुड़ीं।

    उन्हें विधि सहयोगी के रूप में इंटर्नशिप और शोध अनुभव राज्य मानवाधिकार आयोग के साथ इंटर्नशिप, जिला न्यायालय और उच्च न्यायालय के माध्यम से हुए। उन्होंने जागृति सेवा संस्थान (एन.जी.ओ.) पुणे के सहयोग से विधिक सहायता कैम्प के भाग के रूप में ’’स्त्री भू्ण हत्या’’ पर एक जागरूकता कार्यक्रम संचालित किया।

    संगोष्ठी और कार्यशाला :

    • श्री फिरदोश अली और श्री ललित मोहिनी भट्ट द्वारा एस.एल.एस. पुणे में ध्यान पर किए गए केप्सूल कोर्स में भाग लिया।


    • श्री डोमनीक डिसूजा द्वारा पुणे में 2012 में ’’संचार माध्यम और विधि’’ विषय पर कार्यशाला में भाग लिया।